ईद पर मुराद मेरी



अतुल पाठक " धैर्य "

ए खुदा बख़्श दे अब,

कुछ पल सुकूँ के दे रब।


तमाम ज़िन्दगियों को न छीन अब,

मेरी फ़रियाद सुन ले रब।


ज़िन्दगी को एक बार फिर ख़ुशनुमा पैग़ाम दे रब,

जीने की चाहत कम न हो ऐसा कुछ आयाम दे अब।


बग़ैर तेरी रज़ामंदी के भला कभी कुछ हुआ है रब,

इस ईद पर दिली मुराद है मेरी ज़िन्दगी को थोड़ी सी राहत भी दे अब।


रचनाकार-अतुल पाठक " धैर्य "

पता-जनपद हाथरस(उत्तर प्रदेश)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image