ग़ज़ल

 







प्रियंका दुबे 'प्रबोधिनी'

बहुत बेकली है तुम्हारे... शहर में,

सभी जी रहे हैं नियति के कहर में।


चलो ले चलूँ गाँव की उस गली तक,

सुकूँ हैं बड़ी उस बहकती.. डगर में।


नही कोई भूखा रहे एक दिन भी,

नही जिंदगी यूँ लटकती.....अधर में।


शहर में तो इंसान बिकने लगे हैं,

कहाँ मुफलिसी तेरी उनकी नज़र में।


चली अब सियासत की ऐसी हवा है,

नही ये पता जाने हो तुम.. किधर में।


तुम्हीं हेडलाईन की सुर्खियाँ हो,

तुम्हीं छपते अख़बार की हर ख़ब़र में।


ये पाँवों में छाले किसे दिख रहे हैं,

सरे राह जीवन कटे... दर - बदर में।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image