माँ की ममता

शरद कुमार पाठक

माँ की ममता कब कहती

आँखों से ओझल हो जाओ

स्नेह पिता का कब कहता

कोई आँक मेरा ये गिर जाये


उर में बहती ममता की धारा

आँखों में बसता प्यार


मां की ममता कब कहती

आँखों से ओझल हो जाओ


वट वृक्ष तुल्य सम पिता बराबर

मां करुणा का सार


जीवन पलता माँ के आँचल में

पिता देता शीतल छांव


आंच न आने देता सर पे

चाहे खुद मुसीबतों का झेले पहाड़


माँ की ममता कब कहती

आँखों से ओझल हो जाओ


स्नेह पिता का कब कहता

कोई आँक मेरा ये गिर जाये


               (शरद कुमार पाठक)

डिस्टिक------(हरदोई)


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
हास्य कविता
Image