स्वाभिमान का महल



कीर्ति चौरसिया 

बहुत दिन हुए यूं हकीकत

में लिपटे हुए,

चलो ,आज एक ख्वाब,

 फिर बुना जाए।


उलझती, सुलगती

 फिर ठंडी होती,

हकीकत को दूर फेका जाए

चलो, आज एक ख्वाब फिर बुना जाए।।


बहुत डरने लगी थी

सच की आहटों से,

दूर बैठी हैं जो मेरे इंतजार में

आज उन्हीं के करीब जाया जाए,

चलो ,आज उन्हें ही डराया जाए,

आज एक ख्वाब फिर बुना जाए।।


क्यों समझकर ज़िंदगी 

और उलझाया जाए ,

बस कुछ सपनों को ही

 सही एक मखमली लिवास पहनाया जाए,

चलो , एक ख्वाब फिर बुना जाए।।



अब खुशी से ओढ़ लेती हूं 

उन्हीं सच्चाइयों को,

रत्ती भर भी जो मेरी 

फ़िक्र नहीं करती,

झूठे गुमान में रहने वाली

सच्चाइयों को आईना दिखाया जाए ,

आज स्वाभिमान का महल बनाया जाए ,

इक ख्वाब फिर बुना जाए।।


स्वरचित, मौलिक,

         कीर्ति चौरसिया 

              जबलपुर (म.प्र.)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image