जरा हमें बतलाना

 

ऋषि तिवारी"ज्योति"

पूछता हूं

बात एक

संभव हो तो

बतलाना ।


शान्ति मिलेगी

कहां ?? 

धरा पर,

हमें जरा बतलाना ।


दूर भी

होगी तो

जाएंगे ।

भले ही

खाना ना

खाएंगे ।

पैदल या

किसी वाहन से,

अपने सपनों

के साधन से,

उपयोगी एक

युक्ति लगाकर,

मन के

घोड़े को

दौड़ाकर,

सारा कष्ट

उठाएंगे ।

कहां मिलेगी

शान्ति धरा पर,

कोशिश कर

उसको,

खोज निकट

हम लाएंगे ।


न पैसे में

मिली हमें,

न सोने या

चांदी में, ।

न जागीर में

दिखी कभी,

न राजसी 

थाली में ।

कहीं मिली

हो शान्ति

अगर तो,

वह राह

हमें बतलाना।

रहती है

वो कहां,

जरा हमको

भी बतलाना ।।


✍️ ऋषि तिवारी"ज्योति"

चकरी, दरौली, सिवान (बिहार)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
क्योंकि मैं बेटी थी
Image