शब्द

निवेदिता रॉय

जब बुन जाते प्यार के धागों में 

ये बन जाते गाने 

ग़र ग़ुस्से से भर जाते तो चोट बहुत पहुँचाते 


इन शब्दों के समुंदर से 

हर शख़्स चुनता जो वो चाहे 

कोशिश करना वो चुनो

कि फिर किसी को न चुभो🌵


शब्द -निशब्द के पुल से गुजरना

है इंसानी ज़रूरत 

शब्दों के ही जोड़ तोड़ में 

दिख जाती हर किसी की फ़ितरत 

निवेदिता रॉय (बहरीन)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image