आशा

 डाॅ. पुनीता त्रिपाठी

अपनी ही हंसी , अपना ही गम हैं |

आंखे भी अपनी जाने क्यूं नम हैं ||


जज्बा है जिन्दगी फिर रोते हम हैं |

बचाये रहे दामन खुशियों में दम हैं ||


नहीं हैं कोई दुश्मन निर्मल मन हैं |

प्रेम विश्वास अपनत्व अपना धन हैं ||


जग में दुखों की फैली बदलियां हैं |

चहुंओर संशय , दुख के विभ्रम हैं ||


हताश , निराश क्यों इतना हम हैं | 

वो पालनकर्ता प्रभु पास हरदम हैं ||


         स्वरचित- डाॅ. पुनीता त्रिपाठी

          शिक्षिका, महराजगंज, उ. प्र.

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image