तुम बिन मां

 मातृदिवस पर विशेष



प्रेम बजाज

क्या तुलना उस मां की सुरज- चांद - सितारों से 

गंगा से ,जमुना से , समुद्र से या नदियां हज़ारों से ।


मां की ममता का कोई मोल नहीं , दुनियां में इसके 

  बराबर दुनियां में कोई मीठा बोल नहीं ।


सुख का सागर है मां , प्यार की गागर है मां , जब ना 

मिला इश्वर को कोई अपने समय तो धरती पर भेजी मां ।


कहां कोई लिख सकता मां के लिए , मां तो मां होती है 

आंखों में आंसु खुशी के हैं या ग़म के पल में पहचान लेती है ।


मान- अपमान धरा सी सब सहती है , अन्धकार में भी 

उजाला देती , इसके दूध का कर्ज कहां कोई चुका सका

अंबा - धात्री , जननी , गुरू , इश्वर सभी में ही समाई मां ।


देती जन्म, शिक्षा, संस्कार, इन्सानियत का पाठ पढ़ाती मां ‌

बच्चों के लिए हर पल दुआ करती और दुआ बन जाती मां ।

            जीवन पथ पर आगे बढ़ना सीखाती मां ,  

               मेरी ताकत, मेरा साहस , मेरी मां ।

 

प्रेम बजाज, जगाधरी ( यमुनानगर )

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image