तुम बिन मां

 मातृदिवस पर विशेष



प्रेम बजाज

क्या तुलना उस मां की सुरज- चांद - सितारों से 

गंगा से ,जमुना से , समुद्र से या नदियां हज़ारों से ।


मां की ममता का कोई मोल नहीं , दुनियां में इसके 

  बराबर दुनियां में कोई मीठा बोल नहीं ।


सुख का सागर है मां , प्यार की गागर है मां , जब ना 

मिला इश्वर को कोई अपने समय तो धरती पर भेजी मां ।


कहां कोई लिख सकता मां के लिए , मां तो मां होती है 

आंखों में आंसु खुशी के हैं या ग़म के पल में पहचान लेती है ।


मान- अपमान धरा सी सब सहती है , अन्धकार में भी 

उजाला देती , इसके दूध का कर्ज कहां कोई चुका सका

अंबा - धात्री , जननी , गुरू , इश्वर सभी में ही समाई मां ।


देती जन्म, शिक्षा, संस्कार, इन्सानियत का पाठ पढ़ाती मां ‌

बच्चों के लिए हर पल दुआ करती और दुआ बन जाती मां ।

            जीवन पथ पर आगे बढ़ना सीखाती मां ,  

               मेरी ताकत, मेरा साहस , मेरी मां ।

 

प्रेम बजाज, जगाधरी ( यमुनानगर )

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image