मोह माया


अखिलेश्वर मिश्र

जे भी जनम लेले बा ओकर,

एक दिन गइल तय बा।

तबो ना देखीं मृत्यु से, 

हमनीं में केतना भय बा।।


हर व्यक्ति अपना जीवन में,

रोजे देखे सपना।

ना चाहेला छोड़ के जाईं, 

घर-परिवार के अपना।।


चाहेला दायित्व निभाईं,

घरभर के दीं प्यार।

माई-बाप के सेवा करीं,

बेटा-बेटी होखे होशियार।।


सुंदर सा बंगला हो आपन,

भरल पुरल परिवार।

आमदनी के स्रोत बहुत हो,

बिकसित हो ब्यापार।।


इहे मोह माया जीवन के,

इहे कहाला तृष्णा।

एकरा से छुटकारा खातिर,

जाईं शरण में कृष्णा।।


जे दिन मोह भंग हो जाई,

निर्विकार हो जाई काया।

जीवन-मरण के चिंता हsटी,

रही ना केहू आपन पराया।।

@✍️🙏

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image