गुरु

गीता पांडे अपराजिता

गुरु चरणों का ध्यान करू नित!

गुरुवर का सम्मान करू नित!

जीवन राह दिखाने वाले,

गुरुवर पर अभिमान करू नित!


जीवन पथ के गीत गुरु है!

तार -तार मे प्रीत गुरु हैं!

 उजड़ी जीवन बगिया मुंह की!

मन मंदिर के मीत गुरु है!


 पल पल जीवन व्यर्थ नहीं है!

 गुरु बिन कोई अर्थ नहीं है!

 करूं वंदना गुरु की कैसे, 

जिह्वा में मेरी समर्थ नही हैं!!


गीता पांडे अपराजिता

 रायबरेली उत्तर प्रदेश

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
जीवन के हर क्षेत्र में खेल महत्वपूर्णः संजय गुलाटी, भेल में अन्तर इकाई बास्केटबाल टूर्नामेंन्ट
Image
साहित्यिक परिचय : बिजेंद्र कुमार तिवारी
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image