तुम्हें महकना होगा

ललिता पाण्डेय 

वो ओढ़ आधुनिकता का लिबास 

उड़े आसमां तलक

लेकिन आज भी नजरे पड़ ही जाती है


उसकी उन अदृश्य निगाहों तक

जो तालियों का साथ दे

निहारते है उसके खुले बालों को

ढूंढ़ते है कमियाँ उसके लिबास में

तिरछी नजरों से

उसके चलने में खाने में

उठने-बैठने में...

खिल उठती है मुस्कान उनके चेहरो में

देख उसको हताश 

अपने ही हालातों से

वो नही समझ पायेंगे उस सफर को

जो उसने प्रारम्भ किया

उन्हें सिर्फ शूल बन बिछना आता है

और तुम्हें सिर्फ गुलाब बन

 महकना होगा निरन्तर 

स्वयं के लिए

तुम्हारा महकना ही इनकी पराजय है।


ललिता पाण्डेय 

दिल्ली

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image
सफेद दूब-
Image