गीतिका

 

महातम मिश्र 'गौतम' गोरखपुरी

मैना मटक रही है

तीतर भटक रहा है

सैयाद की निगाहें

अमृत गटक रही है।।


हाथों में उठी ऐंठन

अँगुली चटक रही है।।


बेबस हुई जवानी

आफत लटक रही है।।


नयनों का नूर काजल

चितवन खटक रही है।।

 

उस्ताद की अमीरी

पल पल छटक रही है।।


दिन रात सभी अपने

गरमी खटक रही है।।


पतझङ बसंत लाये

ऋतु वन फटक रही है।।


'गौतम' न गिला करना

महफ़िल झटक रही है।।


महातम मिश्र 'गौतम' गोरखपुरी

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image