है आदमी

रचना सक्सेना

कड़क धूप आज की,

साँझ की उदासी है, 

जिंदगी भी मौत की, 

बन गयी दासी है, 


चैन सुख लुटा हुआ, 

है आदमी बिका बिका। 


रो रहे है पथ सभी, 

रो रही है वादियाँ, 

कराह उठी है धरा, 

धूल है और आँधियाँ, 

पात सा सूखा हुआ, 

है आदमी मरा मरा। 


नदियाँ खिलखिला रही 

बह रही बहाव में

श्वांस है रुकी हुई 

दर्द बहुत घाव में 

होश भी भुला हुआ

है आदमी डरा डरा। 


रचना सक्सेना 

प्रयागराज 

18/05 /2020

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image