बस एक बार आप जाओं

सुनीता जौहरी

सांसों को तुम महका जाओं 

खुशी के आंसू छलका जाओ 

ख्वाबों की ख्वाहिशें हो पूरी

अधरों पर हंसी लौटा जाओ ।।


पायल में खनक दिला जाओ

ये आग जिया़ की बुझा जाओ

तन - मन मेरा नहीं है वश में 

तुम वश में करने आ जाओं ।।


जब फूलों की बारिश हो नूरी 

जब होनें लगे हर शाम सिंदूरी

हवा भी बहके होकर अंगूरी

तन्हाई को मेरे मिटा जाओ ।।


तुम मुझमें आज भी हकीकत हो

और आंखों में छिपी शरारत हो

झूकी पलकों में झूठी इंकार हो

मेरी झूठी नफरत झूठला जाओं।।


मेरी ना को हां समझ लेना तुम

तुम प्रेम हमारा जतला जाओं

आंखों में छिपी शरारत है जो

इस उलझन को सुलझा जाओ ।।


व्यथा दिल की तुम्हें क्या सुनाऊं

पतझड़ को बसंत बना जाओ 

मिलन हमारा हैं आधा अधूरा

मिलन के गीत तुम सुना जाओं

प्रिय !बस एक बार तुम आ जाओ ।।


सुनीता जौहरी

वाराणसी उत्तर प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image