मनहरण घनाक्षरी


सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

*******************

बागों में है कली खिली,

दुनिया की खुशी मिली।

अब न कोई है गिला,

जान में जान आई।।

हिय में बहार छाई,

तन लेता अंगड़ाई।

खुशियाँ हजार लाई,

चलती है पूर्वाई।।


काली घनघोर घटा,

बादलों की प्यारी छटा।

बदली बरसती है,

भू की प्यास बुझाई।।


अधरों से छूता रहूँ,

गरमी को सदा सहूँ।

गले से लिपट जाऊँ,

दूर होगी तन्हाई।।


मनसीरत कहता है,

दुख दर्द सहता है।

मन में है चैन नहीं,

नैनो में नीर लाई।।

******************

सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image