मनहरण घनाक्षरी


सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

*******************

बागों में है कली खिली,

दुनिया की खुशी मिली।

अब न कोई है गिला,

जान में जान आई।।

हिय में बहार छाई,

तन लेता अंगड़ाई।

खुशियाँ हजार लाई,

चलती है पूर्वाई।।


काली घनघोर घटा,

बादलों की प्यारी छटा।

बदली बरसती है,

भू की प्यास बुझाई।।


अधरों से छूता रहूँ,

गरमी को सदा सहूँ।

गले से लिपट जाऊँ,

दूर होगी तन्हाई।।


मनसीरत कहता है,

दुख दर्द सहता है।

मन में है चैन नहीं,

नैनो में नीर लाई।।

******************

सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image