नर्स सेवाभाव का दूसरा नाम है

 

रवींद्र कुमार शर्मा


सबसे पहले नर्स से ही मिलता है

जब भी कोई बीमार हॉस्पिटल जाता है



उसी से सारी जानकारी लेकर

संबंधित डॉक्टर से मिल पाता है

नर्स भी देवी का इक रूप है

जो दूसरों की ज़िंदगी बचाती है

तभी तो ऑपरेशन थिएटर में 

डॉक्टर के साथ खड़ी नज़र आती है

इंजेक्शन लगाना हो या मापना हो बुखार

बिना भेदभाव के नर्स हमेशा रहती है तैयार

लोगों की करती है दिन रात सेवा

छोड़ना पड़ता है उसको घरबार

वार्ड में दौड़ती फिरती है इधर उधर

जैसे चल रही हो मशीन कोई

कोई नहीं जानता लोगों की सेवा के लिए

वह कितनी रातों से नहीं है सोई

वार्ड में कोई कहता मेरा ग्लूकोस बदल दो

कोई हड्डियों की पीड़ा से कराहता है

एक दम से पहुंचती है मरीज के पास

उसका कोमल हृदय एक दम से पिघल जाता है

हरी बर्दी व सफेद टोपी पहनती है

खुदा का फरिश्ता नज़र आती है

बात करती है प्यार से जब मरीजों से

आधी बीमारी वैसे ही दूर हो जाती है

नर्स सेवाभाव का ही है दूसरा नाम

निःस्वार्थ सेवा करती है सब की

कठिन वक्त में साथ देती है

मरीज के लिए वह तो नेमत है रब की

रवींद्र कुमार शर्मा

घुमारवीं

जिला बिलासपुर हि प्र

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image