ग़ज़ल








साधना कृष्ण

आँख तो मिल गयी फासला रह गया।

अनकही बात का सिलसिला रह गया।।



रोज मिलते मिलाते रहे हम मगर।


फिर कहो क्यों शिकवा गिला रह गया।।


पूजते थे नदी को त्योहार पर।

दह गयी देह बस काबिला रह गया।।


कह सके अलविदा हम कहाँ यार को।

जो हिला हाथ मेरा हिला रह गया।।


सौंपकर दिल की जागीर खुश तो हुए।

नाम मिटते गये बस किला रह गया।।


Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image