ग़ज़ल

निवेदिता रॉय 

कुछ यूँ लगता है....

अल्फ़ाज़ों को एक अफ़साना मिल गया है 

कह दूँ या लिख कर बयान कर दूँ,

वो समझेगा या नहीं, कुछ यूँ लगता है ।

तेज़ बारिशों का मौसम है, 

हवाओं में भी नमी सी है

वो भीगेगा या नहीं, कुछ यूँ लगता है 


तेरी तस्वीर से कुछ बातें की मैं ने 

चंद यादें तरोताज़ा की मैं ने 

तू कुछ बोलेगा या नहीं, कुछ यूँ लगता है 

अल्फ़ाज़ों को एक अफ़साना मिल गया है 

कुछ यूँ लगता है..........


निवेदिता रॉय 

(बहरीन)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image