गीतिका

(आधार छंद - आल्हा)



सुनीता द्विवेदी

^

भक्ति सुधा रस भरा ह्रदय में,क्यों मन मूरख चखता नाय,

अंतकाल जब आन पड़े तो,मानव काहे फिर पछताय।

-2

मोल समझ ले आज समय का,मोह-लोभ का करना त्याग,

अब न जपे तू देर करे क्यों,जीवन नदिया बहती जाय।

-3

हीरा माणिक जनम तुम्हारा,जीवन के ये पल अनमोल,

समय बीत जाएगा तब तू,हाथ मलेगा फिर पछताय।

-4

जो भी करना करो आज से,चलो ईश के अब दरबार,

चला चली जब हो दुनिया से, तन-मन सब होता असहाय।

-5

काल तुम्हारे पीछे पीछे, चलता पकड़ तुम्हारा हाथ,

जाना होगा वहीं एक दिन, प्यारे काल जहाँ  ले जाय । 

-------- 

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image