पाँच दोहे(स्वतंत्र)




आभा सिंह 

1- पत्रहीन पीपल हुए ,खंखड़ हुए बबूल।

   राही को छाया हुई,ज्यों गूलर का फूल।।


2- ढोल बजाकर जो सदा,बरसाते हैं ज्ञान।

    अपने मन में भी कभी,झाँके वे श्री मान।।


3-आँखों में ज्वालामुखी,होंठों पर विषधार।

   व्याघ्रों से बढ़कर हुआ,आज मनुज खूँखार।।


4-नेकी कर जग में सदा, अरु दरिया में डाल।

प्रभु किरपा से होयगा, जीवन यह खुशहाल।।


5-कहते हैं जो कर भला, मिले भला परिणाम।

सबका ही प्यारा बने, होत जगत में नाम।।


आभा सिंह 

लखनऊ उत्तर प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image