मन मे सह गई

सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

दिल की दिल मे रह गई,

मन ही मन में सह गई।


सुनता आया तू सदा,

बातें वो सारी कह गई।


रहता जो तू था जहाँ,

वो ईमारत ढह गई।


कहता आया तू सही,

गाड़ी कब की लह गई।


जो साथी था वो हटा,

बेकारी थी गह गई।


घर कब का था वो टूटा,

मिट्टी तो थी तह गई।


मनसीरत कब का गया,

हृदय पर थी सह गई।

******************

सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
गीता सार
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image