मां

 


वीरेंद्र सागर
 

दुनिया में तू सबसे न्यारी है मां, 

मुस्कान तेरी सबसे प्यारी है मां ||  


मैं फूल हूं तेरे बाग का, 

तू पूरी फुलवारी है मां ||


हंसता खेलता हूं तेरे साथ, 

सबसे अच्छी यारी है मां ||


तेरे लिए मैं जितना लिखूं उतना कम है, 

सारी दुनिया तुझ पर बलिहारी है मां ||


मेरी कलम की इज्जत है तुझसे, 

मेरी इज्जत तूने सवारी है मां ||


-वीरेंद्र सागर 

-शिवपुरी मध्य प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image