उजाला

डॉ मीरा त्रिपाठी पांडेय 

 बहारें फिर से आयेंगी   

  अगर अँधेरा आया है तो,

   फिर तो,उजाला आयेगा ।

   मन मधुबन फिर महकेगा,

   फिर से जीवन चहकेगा ।

 आज घरों में बंद हुए हैं ,

 कल तो बाहर निकलेंगें ।


  जीवन जीने की आशा है,

 तो आशा में नहींनिराशा है।


 जीवन में उत्साह भरो,

 कुछ दिन घर में ही रहो।

 

 दो गज की दूरी रखो ।

 मुँह पर मास्क जरूरीरखो।

 

@ डॉ मीरा त्रिपाठी पांडेय 

           मुम्बई ।

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image