मेरा चाँद

 

डॉ मंजु सैनी

चाँदनी रात में

कमी सिर्फ मेरे

चाँद की...

देखो शरद पूर्णिमा की 

सुहानी सी बादामी सी इस रात में 

मैं हूँ नितांत अकेली सी बस

मैं अपने प्रिय...

चांद को देख रही हूँ बस अकेली ही

निहार रही हूँ बस बेबस सी नजरो से

न जाने क्यों आज तुम्हारी ...

जरूरत सी क्यो महसूस हो रही है..? 


 चाँदनी रात में

कमी सिर्फ मेरे

चाँद की...

मेरा प्यार सा चांद जो होता है मेरे पास 

'तुम-सा' सिर्फ तुम-सा...

मेरे साथ ओर सिर्फ मुझे ही देखता 

मुझे ही सुनता, बस मुझे ही...

मेरा चांद याद आता हैं आज न जाने क्यों..?

मेरे चाँद सिर्फ तुम याद आये 

तुम्हारी कमी सी खलती हैं 

इस पूर्णिमा की चांदनी में

चाँदनी रात में

कमी सिर्फ मेरे

चाँद की...

"मंजु" को उसके चाँद की

,डॉ मंजु सैनी

गाजियाबाद

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image