भ्रष्टाचार बढ़ रहा है

 

अर्पणा दुबे अनूपपुर

भ्रष्टाचार बढ़ रहा है

अंबर भी रो रहा है

      कोई किसी का सुन नहीं रहा है

       काला बाजारी चल रहा है


किसे सुनाये व्यथा अपनी

गरीबों का जीना है मुश्किल


          भ्रष्टाचार बढ़ रहा है

      काम बस पूरा लेते

     काम बस है पूरा लेते

 वेतन मांगने में धमकी देते

इसे रोको इसे टोको

भ्रष्टाचार बढ़ रहा है।।।।


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
हास्य कविता
Image