आज देखो कितने बदल गए हम...

 


डॉ मंजु सैनी

अब अपने दुःख-दर्द छिपा दिखावटी मुस्कुराहट में

अब छले से जा रहे हैं अपने ही गुरुर के मयखाने में

तब उम्र बीत जाया करती थी,सब के काम आने में

अब देखो तो लगता है अकेले जीवन के शराबखाने में।


आज देखो कितने बदल गए हम..

तब रहा करते थे मिलजुल के परिवारो में

अब तो घुमा करते हैं घमंड के मयखाने में

अब क्या बतायूँ बदल दिया हमने सब दस्तावेजो में

अब भूगोल ही क्या से क्या कर दिया परिवारों में।


आज देखो कितने बदल गए हम...

अब तुम तो देखो उलझ कर रह गए कागजो में

अब तो बस ख्वाहिश हैं ज्यादा पैसा ही कमाने में

अब मैं भी लग गई बस रोज टी वी के सीरियलों में

अब तो बर्बाद करना शुरू किया समय फालतू बातों मे।


आज देखो कितने बदल गए हम...

आंखों में शर्मोहया के पर्दे अब उतरें हैं

न जाने क्यो अब अपने लिए ही बस जीते हैं

वो दौर अपना सा था जब जीते थे हम सवके लिए

अब तो अपने लिए ही सब दिखता हैं।


आज देखो कितने बदल गए हम...

अब आसान नही जिंदगी का सफर अकेले में

अब दिन सारा गुजर जाता है आपसी तकरारो में 

अबतो उलझा है हरेक अपने ही दुख के आँधीतूफानो में 

अब तो बदल ही गए हैं अपने ही बस लालच में।

डॉ मंजु सैनी

गाजियाबाद

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image