वाणी

 


मधु अरोड़ा

जग की रीत अनोखी देखी, जैसा मौका मिले बोल

 मधुर मधुर बोल तू बोल ,वाणी में अमृत घोल।।



वाणी में अमृत घोल ,कभी डांट डपट के बोल

काम अगर अपना हो तो, मिश्री सा तू बोल।।



चतुर सुजान देखे यहां ,करते चतुर व्यवहार।

 मैं तो एक नादान हूं ,प्रभु वर् धर लो मेरा ध्यान।।

                           दिल की कलम से

                           

                           

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
मैं मजदूर हूँ
Image