कवियत्री पूनम शर्मा स्नेहिल की रचनाएं


वक्त से आगे

***********


चल वक्त से कुछ आगे ,

इक नया जहांँ बनाएंँगे ।

भुला कर गम सभी हम ,

वहांँ पर मुस्कुराएंगे ।


खिलेगी जो बगिया उसमें ,

आ भवरे भी गुनगुनाएंगे। 

उसकी खुश्बू से हम अपनी,

न‌ई दुनिया महकाएंगे ।


नहीं होगी जहांँ पतझड़ कभी,

 ऐसी वादियांँ लगाएंगे ।

सितारे आके आंँगन में ,

हमारे टीम टिमाएंँगे ।


रखे महफूज हर बला से,

 रब आशियां को हमारे ।

कर इबादत हर घड़ी हम ,

उसका शुक्र मनाएंगे ।


चांँद उतरेगा आंँगन में ,

और हम गीत गाएंँगे।

 रहकर संग एक दूजे के ,

हम जीवन में बिताएंगे ।


चल वक्त से आगे हम ,

सबको दिखलाएंगे।

हर कदम पर एक दूजे का ,

सहारा हम बन जाएंगे ।।



ज़िन्दगी

*************


जिम्मेदारियों के बोझ ने ,

बड़ा बना दिया ।

अच्छा था वो बचपन ,

जो ममता की छांँव तले बीता करता था।

नहीं है सुकून अब दो पल का भी,

 सब कुछ पाकर भी ।

वह बचपन था यारों,

 जो एक टॉफी से मुस्कुरा दिया करता था। आज सब कुछ खरीदने की,

 हैसियत रखता फिर भी ।

वह मांँ की लोरी वाली ,

सुकून की नींद नहीं आती ।

आज सब कुछ अपना है फिर भी ,

ना जाने क्यों वह भाई बहनों से ।

छीन कर खाने का सुकून नहीं मिलता ,

सब कुछ पाने की होड़ में ,

असल खजाना खो सा गया है ।

वह बचपन की यादें ,

वह बचपन का आगन अब ना रहा ।

पाकर अब सब कुछ भी ,

आज कितने तन्हा से हैं हम ।

वह सुकून वह खुशी ,

का आलम अब ना रहा ।।



गजल

************


गम न थे कम राहे जिंदगी में कभी ,

गमों के दरमियांँ फिर भी मुस्कुराते रहे ।

अश्कों में बीती कई रातें फिर भी ,

सुबह की किरण संग खिलखिलाते रहे।


 गुमा न हो अपनों को जख्मों का हमारे, सोचकर यही हर पल गुनगुनाते रहे ।

 ना हो शिकवे शिकायत किसी को कभी,

हर जख्म हम अपना छुपाते रहे ।


हर ख्वाब अपने भुला करके हम तो ,

अरमानों को अपने हम दफनाते रहे ।

सोचा शायद मिलजाए सुकू जिंदगी का ,

हर पल अरमानों की कब्र हम बनाते रहें।


औरों की खुशी तलाशने में हम तो ,

अपनी ही म‌इय्यत सजाते रहे ।

कुछ हासिल ना हुआ खुद को मार कर यूंँ ही, हरपलअपना ही कातिल खुद को बनाते रहे ।


 जिन रिश्तो में खुद को भुला ना था चाहा, बेमानी से रिश्तों को ताउम्र अपनाते रहे। जिनकी खातिर जाने क्या-क्या सहा जिंदगी में ,

हर खुशी पर हमारी वो अपना दिल जलाते रहे।


रिश्तों की क्यारी को महकाते हम कैसे ,

जब हर पौधे को ही वह तोड़ कर जाते रहे।

कब तक संभाले खुद को यूंँ ही ,

जब हर पल वह मतलब परस्ती दिखाते रहे ।।


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image