हे परशुराम प्रकटो फिर से



जगदीश चंद्र शर्मा 

संकल्प करें द्विज पुत्र सभी,इस धरा धाम पर न्याय करें !

 उस दिव्य ऋषि का क्रोध जगे, दुनिया से पापी दूर करें !

 ब्रह्मपुत्र हम दिव्य संतति, सब मिलकर आह्वान करें !

 हे परशुराम ! प्रकटो फिर से, यह धरती मां चित्कार करें ।


कोप दृष्टि के प्रचंड प्रहार से, फरसा फिर चमकाना है !

पीड़ित मानव की रक्षा में,फिर से धरती पर आना है !

 मातृ हंता का दाग मिटा लो, अवसर यह अनोखा है !

हे परशुराम ! प्रकटो फिर से, दानव अदृश्य अनोखा है ।


शिवभक्त भयंकर भगवन हो, जमदग्नि परमवीर कहलाए ।

कश्यप से विधिवत मंत्र पढ़ें,गिरी श्रंग के वासी कहलाए !

 शंकर से पाकर त्रैलोक्य कवच, अक्षुण्ण अविनाशी कहलाए ।

हे परशुराम ! प्रकटो फिर से ,साक्षात दंडवत कर पाए । 


पित्राज्ञा पाकर कुपित हुए,नहीं कछुक भी धरी धीर !

सहस्त्रबाहु संहार किया,क्षत्रिय विनाशक महावीर !

21 बार तपोबल से,बन गए धरा के दानवीर।

 हे परशुराम ! प्रकटो फिर से, पुत्रों को बना दो कर्मवीर ।


 परशु का फरसा फिर चमके, असहाय द्विज हुंकार भरे !  

लुप्त ज्ञान फिर पुनः जगे, ब्राह्मण भी दिव्य कर्म करें !

वसुधा पर द्विज का मान बढे, ऋषि का सबको आशीष मिले !

हे परशुराम ! प्रकटो फिर से,इस जग में द्विज को सम्मान मिले ।



दैत्यों के दंत प्रहारों से, विश्व धरा को मुक्त करो !

 भारत मां के दग्ध आंचल को, दुश्मन के लहू से नम कर दो !

 शत्रु के कुटिल कुचक्रों को,फरसे के वार से विफल करो !

हे परशुराम ! प्रकटो फिर से,भव बंधन से हमें मुक्त करो ।


रचनाकार-जगदीश चंद्र शर्मा 

(व्याख्याता) रा.उ.मा.वि.महुआ 

ब्लॉक-मांडलगढ़,जिला भीलवाड़ा

निवासी-पारोली,तहसील-कोटडी

 जिला-भीलवाड़ा,(राज)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image