मेरी माँ....

 

ऋतु गुप्ता

मिश्री की डली

तुलसी सी भली 

बनी सिंहनी मेरी माँ



जब जब मुझ पर आँख उठी तो,

दुर्गा रुप धरा मेरी मांँ

जीवन रथ पर,

मेरे हर पथ पर,बनी सारथी मेरी माँ


जननी तू ही

रचनी तू ही

अनोखी सृजनहार मेरी माँ


मैं जो कुछ हूं,

मैं कहां कुछ हूं

तुझसे मेरी 

पहचान मेरी माँ


हर दुख तेरे

मैं उठा जो सकूं

ऐसा दे वरदान तू माँ


क्या क्या मैं लिखूं

कहां तक मैं लिखूं

किस्से तेरे अन्नत मेरी माँ


थक जायेगी ये कलम मेरी

पूरा कर ना पाऊं

गुणगान तेरा , मेरी माँ


मिश्री की डली

तुलसी सी भली

बनी सिंहनी मेरी माँ

मेरी माँ …..


अपनी कलम से

ऋतु गुप्ता

खुर्जा बुलंदशहर

उत्तरप्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image