आईना

 

बलवानसिंह कुंडू 'सावी'

एक आईने के अनेक मायने

भए उदास तो जाते पास

सजल नेत्रों को बतलाता

भाव दुःख के तार - तार करता

ममतामयी मां -सा सहलाता

सब दुख मानो स्वयं सह जाता

सजने धजने जो पास जाएं

प्रियतम सा अहसास दिलाए

गर प्रीतम संग समक्ष जाएं

मन वसंत सा खिल -खिल जाएं

कोमल गालों की आभा

बिखरी जुल्फों का सावन - घन

देख सौगुना हरा -हरा मन

मुस्कराते अधर समक्ष दर्पण

करने को तत्पर समर्पण

क्यों न जग ऐसा दर्पण बने

न रहने दे किसी को अनमने


बलवान सिंह कुंडू 'सावी'

प्राध्यापक रा व मा वि जाखौली

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image