आईना

 

बलवानसिंह कुंडू 'सावी'

एक आईने के अनेक मायने

भए उदास तो जाते पास

सजल नेत्रों को बतलाता

भाव दुःख के तार - तार करता

ममतामयी मां -सा सहलाता

सब दुख मानो स्वयं सह जाता

सजने धजने जो पास जाएं

प्रियतम सा अहसास दिलाए

गर प्रीतम संग समक्ष जाएं

मन वसंत सा खिल -खिल जाएं

कोमल गालों की आभा

बिखरी जुल्फों का सावन - घन

देख सौगुना हरा -हरा मन

मुस्कराते अधर समक्ष दर्पण

करने को तत्पर समर्पण

क्यों न जग ऐसा दर्पण बने

न रहने दे किसी को अनमने


बलवान सिंह कुंडू 'सावी'

प्राध्यापक रा व मा वि जाखौली

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image