कवि वीरेंद्र सागर की रचनाएं

 


इस पंछी को रुलाकर ना जाओ

दिल के पिंजरे में कैद कर ,

इस पंछी को रुलाकर ना जाओ ||


बिरहा की रातें बन जाएं साथी मेरी, 

इस तरह तुम मुझे सुलाकर ना जाओ ||


थामा है तुमने दामन ये मेरा, 

मुझसे अब हाथ छुड़ाकर ना जाओ ||


अग्नि के सात फेरों में बंधे हैं हम, 

इन सात वचनों को तुम भुलाकर ना जाओ ||


 झूठे हैं लोग और झूठी बस्ती है यहां

*****************************


चाहत हुस्न की है और प्रेम जबरदस्ती है यहां,

मोहब्बत की आड़ में नफरत भरी मस्ती है यहां ||


झूठे हैं लोग और झूठी बस्ती है यहां ||


पेश आते हैं ऐसे जैसे इनका दिल बहुत साफ है, 

बनावटी चेहरे हैं और बनावटी लोगों की हस्ती है यहां ||


झूठे हैं लोग और झूठी बस्ती है यहां ||


जाल इतने प्यार से फेंकते हैं मछुआरे जिसमें, 

मासूम और भोली मछली फसती है यहां || 


झूठे हैं लोग और झूठी बस्ती है यहां ||


नोच खाते हैं लोग उसे इस कदर, 

लोगों में सिर्फ हवस ही बसती है यहां ||


झूठे हैं लोग और झूठी बस्ती है यहां ||


तड़पता छोड़ देते हैं रास्ते पर उसे,

अब तो तन्हाई भी उसे डसती है यहां||


झूठे हैं लोग और झूठी बस्ती है यहां ||


मार देते हैं लोग सच को पैसे के लिए, 

झूठ महंगा है और सच्चाई सस्ती है यहां ||


झूठे हैं लोग और झूठी बस्ती है यहां ||


कयामत ने छीन लिया उससे रूप रंग उसका, 

अब उसे देख ये दुनिया हंसती है यहां ||


झूठे हैं लोग और झूठी बस्ती है यहां ||


यह मंजर देख दिल दहल गया #सागर का,

मंजिल दूर है और टूटी कश्ती है यहाँ ||


झूठे हैं लोग और झूठी बस्ती है यहां ||


- वीरेंद्र सागर 

- शिवपुरी मध्य प्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image