ग़ज़ल

 







सुनीता जौहरी

उलझकर तन्हाइयों में समझाना नहीं आया

मेरी भीगी पलकों को समझाना नहीं आया,

रूत़ बरसात की आई और आकर चली गई

मेरी अधरों की प्यास को बुझाना नहीं आया,


भूलतीं नहीं तुम्हारे वो सारे अल्फाज़ इश्क के

मैंने ग़ज़ल लिखी उसें गुनगुनाना नहीं आया,


खोला आज राज दिल के जो छुपाने थे सारे

सवालों से पीछा अब तक छुड़ाना नहीं आया,


वो ऐसे मिला था मुझसे कभी जुदा न होगा

जुदा हुआ ऐसे कि पाकर भी पाना नहीं आया ।।

_______________________

सुनीता जौहरी

वाराणसी उत्तर प्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image