भूख के अवार

 

विद्या शंकर विद्यार्थी 

दिल्ली शहरिया के बंद बा करखनवा, 

मोर सजनिया हो, 

केहू नइखे इहाँ तिकनहार ....।



जेकरे के मालिक बुझलीं 

ऊँच बा मकनवा, 

मोर सजनिया हो, 

आपदा में भइल ना हमार ... ।


धरती ठंढाई कइसे लहकल बा गगनवा 

मोर सजनिया हो 

धंधकत बा जइसे अंगार....। 


रोकत रहतिया बा पुलिसिया ससनवा, 

मोर सजनिया हो 

निठुर नाहीं देखलीं संसार...। 


क्रोनवा से बेशी जनवा लेत बा जहनवा 

मोर सजनिया हो 

कइसै रोकीं भूख के अवार....। 




Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
बेटी को अभिमान बनाओ
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image