दिल के छाले

 

संन्तोषी दीक्षित

भला किसको बताये हम

जख्म किसको दिखाये हम

सभी के दिल में हैं छाले

कैसे मुस्कराये हम,


कही पर कोई मंजर हो,जो

आंखों को सुकू दे दे,हर तरफ

मौत की चीखें, कैसे चुप कराये

हम,


ऐ मेरे मालिक तुझसे ,बस इतनी

इल्तज़ा मेरी,मेरे हाथों इतनी तो

शिफा दे दे, कि तेरे बन्दों को बचाये हम,


फिर वो दौर आयेगा, निकलेगा

नया सूरज,फिर से फिजाये भी

यहां पर खुशनुमा होगी,चलो खुशियों का ये सपना,सबको दिखाये हम,


संन्तोषी दीक्षित 

कानपुर

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image