मैं इस जीवन का स्वच्छन्द विहग

शरद कुमार पाठक

मैं इस जीवन का

 स्वच्छन्द विहग-

अब हमको 

उड़ जाने दो

अरमान मेरे 

ना कैद करो

अब जी भरके

उड़ लेने दो

अब अम्बर 

पंख फैलाने दो

बहुत हो चुका 

घुटकर जीना

अब हमको

 उड़ जाने दो

अम्बर विहार

 कर लेने दो

इन पंखों में

 अब नयी 

चेतना भरने दो

जीवन की दिशा 

बदलने दो

अब हमको 

उड़ जाने दो

अवरोध करो

 ना मेरा पथ

लक्ष मेरा न 

बाध्य करो

मैं एक रहा 

स्वच्छन्द विहग-

अब हमको उड़ जाने दो


              (शरद कुमार पाठक)

डिस्टिक ------( हरदोई)

ई पोर्टल के लिए

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image