ग़ज़ल

  













डॕा शाहिदा

रस्मे दुनिया निभाए जा रहे हैं,

रिश्ते यूँ ही बनाए जा रहे हैं |



मोहब्बत नहीं है किसी को,

फिर भी मुस्कुराए जा रहे हैं |


सच पूछिये तो ये दिल है छलनी ,

राज़े असल छिपाए जा रहे हैं |


बीमार का हाल अच्छा है,

यही सबको बताए जा रहे हैं |


खिले थे गुल जो आरज़ुओं के,

वो सब मुरझाए जा रहे हैं |


ये हालात कैसे ठीक होंगे फिर,

यही सोचकर घबराए जा रहे हैं |


अजब सा माहौल है "शाहिद",

सब्ज़ बाग़ दिखाए जा रहे हैं |



Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image