कुछ समसामयिक हिंदी मुक्तक


अखिलेश्वर मिश्र

समय विपरीत है, हिम्मत से हमसब हल निकालेंगे,

नहीं संभव अगर हल आज, तो हम कल निकालेंगे।

समस्या है तो हल होगा, नहीं इसमें कोई शक है,

लगेंगे हौसलों से जब, मधुर हम फल निकालेंगे।।


कोरोना का कहर कब तक रहेगा, जाएगा एक दिन,

समय विपरीत है, अनुकूल भी हो जाएगा एक दिन।

जरा सा धैर्य, संबल और साहस की जरूरत है,

हमारा पहले का सौहार्द, वापस आएगा एक दिन।।


समय के आगे सब कोई, सदा बौना नजर आता,

समय से पहले भी कोई, यहाँ कुछ भी नहीं पाता।

समय से ठोकरें खा कर, कोई गलती नहीं करना,

समय लेता परीक्षा है, हमारे धैर्य साहस का।।

@✍️🙏

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image