प्रकृति



वीरेंद्र सागर 

कुदरत का वरदान है ये, 

सब लोगों की जान है ये ||


पेड़ पौधे पशु और पक्षी, 

सब पृथ्वी की शान है ये || 


आदर करें सभी हम इनका,  

हम सबके मेहमान हैं ये ||


जितना तंग किया है इसको, 

आज उसका परिणाम है ये ||


इतना देख ना जागा फिर भी, 

फिर कैसा इंसान है ये ||


वक्त है संभल जाओ अभी भी, 

जीवन की पहचान है ये ||  


सुरक्षित हम रखेंगे इसको, 

हम सब ले पैमान है ये ||


इसको नष्ट किया गर हमने, 

फिर समझो शमशान है ये ||


- वीरेंद्र सागर 

- शिवपुरी मध्य प्रदेश

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image