सीख साथी


सतेन्द्र शर्मा 'तरंग',

जीवन के सफर में मंज़िल पर नजर रख, 

कदमों के उतार-चढ़ाव पर समय न गंवा साथी। 

जीवन में हार-जीत का न कभी हिसाब रख, 

कछुए से निरन्तरता खरगोश से गतिकता सीख साथी।। 


है मानव मन तो मानव बन लक्ष्य निर्धारित कर, 

कठिनाईयों के पड़ाव पर संयम न गंवा साथी। 

जीवन के विराधाभासों से डरकर न कभी रुक, 

चींटी से प्रतिबद्धता चिड़िया से उद्यमता सीख साथी।। 


है जीवन पुष्पलता नहीं न है सुगम पुष्प उपवन, 

राह के कंटकों से उलझ कर हिम्मत न गंवा साथी। 

गिरकर उठना सिखाती ठोकरों को शत्रु न समझ, 

मृग से धावकता व्याघ्र से निर्भीकता सीख साथी।। 


हैं आँधियाँ तो हिस्सा, चुनौती है जीवन डगर, 

मुश्किलों के तूफानों से डरकर धैर्य न गंवा साथी। 

अपने हौसलों को न्यूनतम न कभी समझ, 

वसुधा से धीरजता शैल से शिखरता सीख साथी।। 


**सतेन्द्र शर्मा 'तरंग',

११६, राजपुर मार्ग,

देहरादून (उत्तराखंड)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image