जय गुरुदेव

 एक कुण्डली



रोशनी किरण 

_गुरुवर तेरा दास हूं , मैं मूरख नादान ।

           वाणी तेरी सिर धरूं , और न कोई ज्ञान ।।

           और न कोई ज्ञान , दिखे ना कोई अपना ।

           जग झूठा सब शान , सृष्टि है सुंदर सपना ।।

         कहे " किरण " कर जोर , तुम्हीं हो मेरे तरुवर ।

            जीवन मेरा धूप , दास हूं तेरा गुरुवर ।।

      

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image