जय गुरुदेव

 एक कुण्डली



रोशनी किरण 

_गुरुवर तेरा दास हूं , मैं मूरख नादान ।

           वाणी तेरी सिर धरूं , और न कोई ज्ञान ।।

           और न कोई ज्ञान , दिखे ना कोई अपना ।

           जग झूठा सब शान , सृष्टि है सुंदर सपना ।।

         कहे " किरण " कर जोर , तुम्हीं हो मेरे तरुवर ।

            जीवन मेरा धूप , दास हूं तेरा गुरुवर ।।

      

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image