अंजु दास गीतांजलि की ग़ज़ल

       


शारदे को कर नमन, लिखती हूँ सच्चाई कलम से।

चाहती हूँ फिर से लाना ,जग में अच्छाई कलम से।


हिन्दू ,मुस्लिम, सिख , ईसाई आज़ बन बैठे कसाई 

बोलिये कैसे लिखूं इनको भाई - भाई कलम से।


कोख़ में भी जीना मुश्किल हो गया अब बेटियों का

मैं बयां कैसे करूं दुनिया की सच्चाई क़लम से ।


वो न जाने क्यों हमें कहते रहे जाहिल हमेशा 

झूठ पर सच की बजा सकती हूं शहनाई क़लम से ।


वक़्त कैसा आ गया रोजी - रोटी पे आई शामत 

वक़्त कैसे कर पायेगा इसकी भरपाई कलम से।


इक नदी सी ज़िन्दगी होती सदा नारी की सुन लो

मत मलिन होने देना तुम उसकी परछाई कलम से।


अंजु को अंजाम की परवाह हरगिज़ भी नहीं है

चाह लूँ तो पल में ला सकती हूँ तअबाही कलम से।


अंजु दास गीतांजलि.....✍️ पूर्णियाँ ( बिहार ) की क़लम से 🙏🌹🙏

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image