चाँदनी रात थी



सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

खूब तारों भरी चाँदनी रात थी,

हूर से यार पहली मुलाकात थी।


रोज हम देखते थे उसे ध्यान से,

प्यार में मिल गई खास सौगात थी।


देख कर शर्म से लाल हो वो खड़ी,

ताकना हो गई आम सी बात थी।


काम बिन वो वहाँ खूब आने लगी,

जाल में फ़ांस की वो शुरूआत थी।


रिस्क ले पास से हम गुजर थे गए,

भीम सी बन गई मीर औकात थी।


शीत सीरत कहे प्रेम की आग थी,

ईश से जो मिली नेह की दात थी।


सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image