प्रेम



स्मिता पांडेय

अद्भुत और अलौकिक होती है,यह प्रेम की भाषा,

कितना भी तुम इसको बाँटो, रहती है प्रत्याशा ।


प्रेम सदा जोड़े रखता है,मन से मन का धागा,

राधा को हरदम रहती है,कृष्णा की अभिलाषा ।


प्रेम आदि है, प्रेम अन्त है, प्रेम मध्य में छाया,

प्रेमशून्य परिवार देखकर, बढ़ जाती है निराशा ।


उन्नति के पथ पर चलकर तुम, माँ को न बिसराना,

जिसने अपने करकमलों से, तुझको बहुत तराशा ।


ईश्वर की इस रचना को तुम, सत्कर्मों में लगाओ,

परहित करके ही समझोगे, जीवन की परिभाषा ।



Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image