प्रेम



स्मिता पांडेय

अद्भुत और अलौकिक होती है,यह प्रेम की भाषा,

कितना भी तुम इसको बाँटो, रहती है प्रत्याशा ।


प्रेम सदा जोड़े रखता है,मन से मन का धागा,

राधा को हरदम रहती है,कृष्णा की अभिलाषा ।


प्रेम आदि है, प्रेम अन्त है, प्रेम मध्य में छाया,

प्रेमशून्य परिवार देखकर, बढ़ जाती है निराशा ।


उन्नति के पथ पर चलकर तुम, माँ को न बिसराना,

जिसने अपने करकमलों से, तुझको बहुत तराशा ।


ईश्वर की इस रचना को तुम, सत्कर्मों में लगाओ,

परहित करके ही समझोगे, जीवन की परिभाषा ।



Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image