भगवान बुद्ध

 बुद्ध पूर्णिमा विशेष





अतुल पाठक " धैर्य "

सारे सुख सम्पदा त्यागते,

सत्य पर चलकर खुद को जानने की ठानते।


जीवन सत्य को जिसने जाना है,

वही भगवान बुद्ध कहलाना है।


जो मन, वचन और कर्म से शुद्ध है,

हकीकत में बस वही इक बुद्ध है।


लालच,घृणा,काम,क्रोध सब त्यागे तब भए शुद्ध,

सत्य,सनातन,धर्म,समपर्ण पर चल चल बन गए बुद्ध।


क्योंकि आज ही बुद्ध जन्म है पाते

इसलिए बुद्ध पूर्णिमा हम पर्व मनाते।

रचनाकार-अतुल पाठक " धैर्य "

पता-जनपद हाथरस(उत्तर प्रदेश)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image