शहीदों की स्मृति

रंजन साव

मैं सरहद होकर आया हूं,

शहीदों की स्मृति साथ लाया हूं ।


मुझसे पूछो वे कैसे थे,

उनके जीवन क्यों ऐसे थे ।

हम भी क्यों उनके जैसा ना हो पाए,

हम भी क्यों फौजी ना बन पाए ।


वे मृत्यु पर विजय पाकर मृत्युंजय थे,

शत्रु से लड़ कर वे शत्रु-विजयी थे।


पराक्रम और वीरता की

उन्होंने लिखी एक नई परिभाषा थी।


उनके परिवार वालों को,

उनके घर वापस लौट आने की आशा थी ।


लेकिन जब वे लौटे थे,

तो पूरा गांव इकट्ठा था ।


उनके तन पर सजा,

कफ़न तिरंगा था ।


वे घोर निद्रा में लेटे थे,

वे मां भारती के बेटे थे ।


अश्रुजल से सभी ने 

उनके चरणों धोया था ।


ऐसे ही हर शहीद के परिवार ने

अपने बेटे को खोया था ।


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image