बेटा

 

मुकेश गौतम

सपनों की भावी इमारत है तू, 

अपनेपन की इबारत है तू। 

तूझ से ही सुखद है ये सारा जहाँ,

उस परमात्मा की इबादत है तू।।

मुझ में मेरा सा एहसास है तू,

जन्मों का वृत और उपवास है तू।

मेरी हर दिन नई तलाश है तू,

सच कहूँ तो मेरी ही साँस हैं तू।।

जीवन की आपाधापी में सकून है तू,

थकावट में भी एक जुनून है तू।

मेरी हर साँझ और हर सवेरा है तू,

हर दिन मेरा जीवंत बसेरा है तू।।

तू सलामत रहे रब से अरदास है,

तेरे हर पल में उस का ही वास है।

तूझ से ही मुझ में अनोखा प्रकाश हैं,

तेरी सलामती ही मेरे होने का आभास हैं।

======================= 

                           रचनाकार

                        -मुकेश गौतम

                    ग्राम डपटा बूंदी(राज)

                         16:05:2021

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image