याद

 

रेखा शाह आरबी

क्यों जीना है उन यादों संग

जो हृदय को है दुखाती

नव पथ नव आकाश गड़े

जीवन संज्ञान बताती


छूटे हाथों से घट तो

नियति रहेगी टूट

क्यों मन उद्वेलित है करना

कुछ ना कुछ जाएगा छूट


मन दुविधा से ज्यो निकलेगा

फिर से कोई राह बनेगी

उधेड़बुन और दुनियादारी

किंचित यह पहचान बनेगी  


मन का सौरभ महक उठेगा

 बूंद धरा से जो मिल जाए

मुस्कानों की बगिया में तो

चहु ओर गुलाब खिल जाए


केसर के रंग -रंग डाला

नींद और खुमारी को

सौरभ विसरित होने लगा है 

मन की सूखी क्यारी को


रेखा शाह आरबी

जिला बलिया उत्तर प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image