ग़ज़ल

सुभाषिनी जोशी' सुलभ'

यह जिन्दगी मुकम्मल तहजीबों का आधार बने।

इक दूजे के हो कर जी ले यही सदाचार बने। 

लेकर हाथों में हाथ , बंदे जी ले बचा जीवन ।

इसी तसल्ली से दिल की खूबियों का संसार बने।


क्या रक्खा है फ़रेब में, बीज मुहब्बत के बो ले , 

इक रोज़ तो जाना है चाहत ही नवाचार बने।


परहेजगारी को अपना ले नेकी की बातकर, 

चल अमन की कश्ती ले नहीं कभी कदाचार बने। 


है ज़रूरत इन्सां को इन्सां की' इस तन्हाई में,

कर हौसलाअफजाई सबके लिए सुविचार बने।


सुभाषिनी जोशी' सुलभ'

इन्दौर मध्यप्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
क्षितिज के उस पार •••(कविता)
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image