अपनों ने फिर अपनों को खोया है

 


दीपक शुक्ल 'चिराग'

समय तो है कठिन मित्रों धैर्य तो फिर भी रहना है।

वक्त के ज़ख्मों को यारों हमें अब तो सहना है।।

विधाता आज तूने हवा में क्या गरल बोया है।

खुद मैंने ,कई अपनों ने फिर अपनों को खोया है।

विगत एक माह से हर संदेश पर अब डर लगा लगने।।

हर एक जन हो सलामत और स्वस्थ हों सभी अपने।

प्रभु कुछ अब तो ऐसा करदो 

कि तेरी जय-जयकार हो।

खत्म अब वेदना और ये हाहाकार हो।।

अब न रह जाए कोई विष इन हवाओं में।

कोई न वेदना का स्वर गूंजे इन फिजाओं में।।

@

सर्वाधिकार सुरक्षित


🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏


दीपक शुक्ल 'चिराग'

संस्थापक

काव्यांजलि "एक अनूठा आरंभ"

विश्व मंच

🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image